मंगलवार, 12 जनवरी 2010

मैं तो "सोडा" मिला कर पीता था यह मुझे "नीट" ही पिलाती हैं

सर्द काली रातों में
जाने किस कोने से निकल कर आती हैं
फिर "साली" मेरे दिल में घुस जाती हैं
दर्द के साथ "सालसा" करके दिल को बड़ा रुलाती हैं
गम को दिल से निचोड़ कर
मन की आग पर शराब पकाती हैं
"कम्बक्त" खुद भी "पेग" लेती हैं
मेरे को भी पिलाती हैं
अब तो समझ जा "नवाबो के शहर की मल्लिका"
"दिल्ली के सुल्तान" को तेरी याद हर रोज सताती हैं
मैं तो "सोडा" मिला कर पीता था
यह मुझे "नीट" ही पिलाती हैं



©Yashwant Mehta

1 टिप्पणी: