शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2010

मैं ब्लोगिंग से ब्रेक ले रहा हूँ न कि ब्लोगिंग से सन्यास.

सब लोगो के स्नेह के लिए आभार. मैंने ब्रेक की घोषणा करी हैं. मैं ब्लोगिंग से थोड़े ही जा रहा हूँ अर्थात मैं ब्लोगिंग में हूँ और बना रहूँगा. मैं किसी टंकी पर भी नहीं चढ़ा और न ही मेरा किसी से मतभेद हुआ हैं. सबसे प्यार ही मिला हैं तो मतभेद किससे होगा.
 लेकिन एक बात मेरे लिए बड़ी आश्चर्यजनक हैं वो यह की ब्लोगवाणी पर मेरे को ४ अंगूठे(thumbs up) मिले. मुझे एक thumbs down भी मिला. खैर मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता.

मैं ब्लोगिंग से ब्रेक ले  रहा हूँ न कि ब्लोगिंग से सन्यास. ब्रेक भी कोई ज्यादा लम्बा नहीं होली के रंग में भिगाने आऊंगा 
कुछ पोस्टें लटका दी हैं ब्लॉग पर तो समयानुसार टपकती रहेंगी     

मिलता हूँ ब्रेक से लौट कर


12 टिप्‍पणियां:

  1. मैंने भी तो छुट्टी स्‍वीकृत की हैं

    कोई काम से निकाला तो नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके हर विचार का स्वागत है पर हमें प्रतीक्षा रहेंगी..आपके कम बॅक की और आपके रचनाओं की..

    उत्तर देंहटाएं
  3. कौन सा वाला ब्रेक .हा हा .. महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कभी कभी ब्रेक भी बनता है ......

    उसमे ही नये विचार जन्म लेते है

    हम आपका इंतज़ार करेंगे नये विचारों के साथ .....

    Come back soon.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी कभी ब्रेक भी बनता है ......

    उसमे ही नये विचार जन्म लेते है

    हम आपका इंतज़ार करेंगे नये विचारों के साथ .....

    Come back soon.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये हुई ना बात!

    आपका इंतज़ार रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  7. ठीक है ! हम जोह रहे हैं आपकी बाट !

    उत्तर देंहटाएं
  8. पर सुना है हाई वे पर ब्रेक नही मिलता
    आपका इंतजार रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कभी कभी एकाध ब्रेक लेना ही चाहिए !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं तो शिवरात्रि पर अपने पैतृक गांव शिरपुर आया हूं मगर यंहा भी ब्लागिंग ने पीछा नही छोड़ा और एक पोस्त यंहा से भी लिख डाली।सोचता हूं कि एकाध बार मुझे भी छुट्टी ले ही लेनी चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं