सोमवार, 26 जुलाई 2010

ख्याल जब हकीकत से लगने लगे...
समझो इश्क हुआ............!
हकीकत में हो जब ख्यालों का एहसास...
समझो इश्क हुआ............!
जब हम रहें ना हम...
जब तुम रहो ना तुम...
समझो इश्क हुआ............!



Love is possible only when
the I & U in you & me
dies.., gets killed..,
by the self.



ये अपने-पराये के फलसफे...
ये दोस्ती-दुश्मनी के सिलसिले...,
ख्याल हैं बस...
इश्क और मौत से पहले के.........................!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें