मंगलवार, 20 अगस्त 2013

दिल्ली में अब की आकर

दिल्ली में अब की आकर, उन यारों को न देखा
कुछ वे गए शिताबी, कुछ हम भी देर आये


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें